Connect with us

कोरोना

कोरोना से निपटने के लिए ब्रिटेन ने कसी कमर; मॉडर्ना की वैक्सीन को भी दी मंजूरी, खरीदेगा इतनी खुराक

Published

on

Boris Johnson
Photo of Boris Johnson [Prime Minister of the United Kingdom/Instagram]

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन कारण ब्रिटेन की स्थिति लगातार नाजुक बनी हुई है। इस समस्या से निपटने के लिए ब्रिटेन प्रशासन लगातार प्रयास कर रहा है। कोरोना को रोकने के लिए यूनाइटेड किंगडम के औषधि नियामक ने मॉडर्ना की कोविड वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। मॉडर्ना ब्रिटेन में मंजूर की जाने वाली तीसरी वैक्सीन बन गई है।

 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ब्रिटेन ने मॉडर्ना की करीब 1.7 करोड़ खुराक खरीदने का फैसला किया है। वहां की सरकार वैक्सीन की 70 लाख खुराकों का ऑर्डर भी दे चुकी है। रिपोर्ट्स में बताया गया है कि मॉडर्ना की वैक्सीन को सुरक्षा, गुणवत्ता और असर को लेकर कई महीनों तक किए गए क्लिनिकल ट्रायल के आधार पर इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। ब्रिटेन के हेल्थ सेक्रेटरी मैट हैंकॉक ने इसे कोरोना महामारी के खिलाफ एक हथियार बताया है।

Representative Image [Instagram]

Representative Image [Instagram]

ताजा जानकारी के अनुसार मॉडर्ना की वैक्सीन फिलहाल अगले कुछ हफ्तों तक उपलब्ध नहीं हो पाएगी। इसका परीक्षण करीब 30 हजार से अधिक लोगों पर किया गया है। वैक्सीन के परीक्षण के दौरान 95 फीसदी बचाव के परिणाम नजर आए हैं। यह वैक्सीन भी फाइजर और बायोएनटेक वैक्सीन की तरह ही शून्य से 20 डिग्री सेल्सियस कम ताप पर स्टोर की जा सकती है।

ब्रिटेन ने मॉडर्ना के पहले अमेरिकी वैक्सीन फाइजर और जर्मनी की बायोएनटेक वैक्सीन को इस्तेमाल की मंजूरी दी है। ब्रिटेन ने वायरस को रोकने के लिए कमर कस ली है। फाइजर की वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी देने वाला भी ब्रिटेन पहला देश है। हालांकि मॉडर्ना की वैक्सीन को यूरोपीय संघ से उपयोग के लिए पहले ही अनुमति मिल चुकी है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *