Connect with us

दुनिया

‘अमेरिका इज बैक’ कहते हुए विदेश नीति पर क्या संदेश देना चाहते हैं जो बाइडन ? पहले संबोधन में दिखी इसकी झलक

Published

on

Joe Biden
Photo of Joe Biden[Twitter]

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने विदेश नीति पर अपना पहला भाषण दिया है। बाइडन ने अपने संबोधन में ‘अमेरिका इज बैक’ कहते हुए कई संदेश देने का प्रयास किया है। विदेश नीति के मुद्दे पर बाइडन का रूख कैसा होगा इसकी झलक उनके संबोधन में साफ नजर आई है। विशेष रूप से यूनाइटेड नेशन, चीन के मुद्दे पर भी सोच समझ के आगे कदम बढ़ाएगा।

 

हालांकि जो बाइडन ने साउथ एशिया को लेकर कुछ खास नहीं बोला लेकिन उनके भाषण में यह भांपा जा सकता है कि वह चीन के खिलाफ अपना रुख कड़ा ही रखेंगे। उन्होंने कहा कि आर्थिक क्षेत्र में चीन के आक्रमक रवैये का सामना किया जाएगा। लेकिन बातों-बातों में वह ये इशारा भी दे गए कि अमेरिका चीन के साथ आपसी सहयोग के नए मार्ग भी खोजेगा।

Joe Biden

Photo of Joe Biden shared by ANI [Twitter]

विदेश नीति पर अमेरिका बदलाव करेगा इसका अंदाजा पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों के विपरीत की गई घोषणाओं से भी चलता है। बाइडन ने शरणार्थियों की संख्या पर लगी सीमा में छूट देने के साथ जर्मनी से अमेरिकी सेना की वापसी पर भी रोक लगाई। बाइडन ने यह भी कहा कि दुनिया में ‘बढ़ रही तानाशाही’ का सामना भी सबको मिलकर करना है।

यह भी पढ़े: भारत को सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्य बनाने के मुद्दे पर स्पष्ट नहीं बाइडन प्रशासन का रुख, क्या पड़ेगा भारतीय मुहिम पर असर?

बाइडन प्रशासन ने ट्रंप काल में अमेरिका के साथ संयुक्त अरब और सऊदी अरब अमीरात के साथ हुई हथियारों की डील की समीक्षा करेगा। साथ ही अमेरिका अब ईरान के साथ परमाणु समझौते पर सकरात्मक नजर आ रहा है। इस रूख को देखकर लग रहा है कि ‘अमेरिका इज बैक’ के साथ बाइडन वैश्विक स्तर कई बदलाव करते हुए नजर आएंगे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *