Connect with us

खेल

Tokyo Paralympics: सुमित अंतिल और अवानी लेखरा ने इतिहास रचते हुए जीता गोल्ड, इन खिलाड़ियों ने भी हासिल किए पदक

अवानी लेखरा द्वारा जीता गया यह टोक्यो पैरालंपिक में भारत का पहला स्वर्ण पदक भी है

Published

on

Paralympics
Picture shared by @Tokyo2020hi[Twitter]

टोक्यो पैरालंपिक में भारतीय एथलीट्स ने शानदार प्रदर्शन करते हुए इतिहास रच दिया है। टोक्यो पैरालंपिक में भारतीय खिलाड़ियों ने एक दिन में दो गोल्ड मेडल अपने नाम किए हैं। भारतीय एथलीट सुमित अंतिल ने भालाफेंक प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता है। उन्होंने महज 15 मिनट के अंदर में तीन बार वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़ते हुए नया इतिहास रच दिया है।

 

सुमित अंतिल ने भालाफेंक के एक ही इवेंट में तीन बार वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने का नया कीर्तिमान स्थापित किया है। उन्होंने अपने पहले प्रयास में 66.95 मीटर भाला फेंका और वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। इसके कुछ मिनट बाद सुमित ने दूसरे प्रयास में 68.08 मीटर भाला फेंकर अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ा और फिर सुमित ने पांचवें प्रयास में 68.55 मीटर भाला को फेंकते हुए इस इवेंट में तीसरी बार वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है।

टोक्यो पैरालंपिक में आज भारत के लिए यह दूसरा गोल्ड मेडल आया है। इससे पहले पैरा शूटर अवानी लेखरा ने निशानेबाजी में इतिहास रचते हुए 10 मीटर एयर राइफल्स में स्वर्ण पदक जीता है। अवानी पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं। अवानी लेखरा द्वारा जीता गया यह टोक्यो पैरालंपिक में भारत का पहला स्वर्ण पदक भी है।

टोक्यो पैरालंपिक में आज का दिन बेहद शानदार रहा है। सुमित अंतिल और अवानी लेखरा के गोल्ड मेडल के साथ-साथ भारत के योगेश कथुनिया ने पुरुषों की एफ-56 डिस्कस थ्रो स्पर्धा में रजत पदक अपने नाम किया है। पुरुषों की भाला फेंक प्रतियोगिता में देवेंद्र झाझरिया ने भी रजत पदक जीता है। इसके अलावा भारतीय एथलीट सुंदर सिंह गुर्जर ने कांस्य पदक जीता है। टोक्यो पैरालंपिक में भारत के कुल सात पदक हो चुके हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *