Connect with us

पॉलिटिक्स

बुजर्गों के हित में योगी सरकार लाएगी कानून, बूढ़े माता-पिता को किया तंग तो वापस हो जाएगी उत्तराधिकार में मिली संपत्ति

Published

on

Photo from Unplash
Photo from Unplash

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार उन असहाय बुजर्गों के हित में नया कानून लाने जा रही है जो अपनों पर भरोसा करके बच्चों या उत्तराधिकारियों को अपनी सारी संपत्ति दे देते हैं और फिर उन बुजर्गों को असहाय छोड़ दिया जाता है। योगी सरकार का कानून बुजर्गों को अपनी संपत्ति वापस लेने का अधिकार देगा। जिससे अगर उन बुजर्गों के बच्चों या उत्तराधिकारियों ने अपने बूढ़े माता-पिता का ध्यान नहीं रखा तो उन्हें दी गई संपत्तियां माता-पिता वापस ले सकेंगे।

एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश के विधि आयोग ने सामाजिक व विधिक अध्ययन के बाद वरिष्ठ नागरिकों के भरण पोषण और कल्याण अधिनियम-2007 की नियमावली में बदलाव का प्रस्ताव तैयार किया है। आयोग ने इस नियमावली को मजबूत करने के लिए सुझाव प्रदेश सरकार को सौंप दिए हैं। आयोग के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति अपने करीबी बुजुर्ग से संपत्ति दान अथवा तोहफे में हासिल करने के बाद उसकी सेवा नहीं करता है तो बुजुर्ग इसकी शिकायत अधिकारियों से कर सकेगा।

 

शिकायत के बाद संपत्ति का बैनामा निरस्त करने की कार्यवाही की जाएगी। राज्य विधि आयोग ने अपनी 13वीं रिपोर्ट में यह भी बताया है कि अगर किसी वरिष्ठ नागरिक की संपत्ति में उसका कोई उत्तराधिकारी या रिश्तेदार रहता है और वह उनकी देखभाल नहीं करता है तो वह बुजुर्ग सीनियर सिटीजन एक्ट-2007 के तहत बने ट्रिब्यूनल में शिकायत करके संपत्ति पर काबिज रिश्तेदार या उत्तराधिकारी को बेदखल करा सकते हैं।

Photo from Unplash

रिपोर्ट में आगे यह भी बताया गया है कि उत्तर प्रदेश में किसी अविवादित संपत्ति के उत्तराधिकारियों को बेवजह की भागदौड़ से आजादी दिलाने के लिए एक प्राधिकरण बनाने की तैयारी भी है। राज्य विधि आयोग के मसौदे के अनुसार अगर किसी व्यक्ति की बिना वसीयत किए ही मृत्यु हो जाती है तो उसके उत्तराधिकारी प्राधिकरण के सामने पेश होंगे। इस प्राधिकरण से उन्हें प्रमाणपत्र प्रदान मिलने की सुविधा होगी। यह प्रमाणपत्र बैंक, डाक घर सहित सभी विभागों में मान्य होगा। इस प्रमाणपत्र के चलते उत्तराधिकारियों को संबंधित संपत्ति पर अधिकार पाने के लिए विभिन्न विभागों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।

किसी अपने के ही द्वारा असहाय छोड़े गए बुजर्गों को अपनी संपत्तियां वापस ले पाने के लिए कानून बनाने की दिशा में राज्य सरकार द्वारा जल्द ही कदम बढ़ाए जाने के उम्मीद है। अगर यह कानून उत्तर प्रदेश में लागू हो जाता है तो यह योगी सरकार की ओर से उठाया गया एक सराहनीय कदम होगा। इससे बुजर्गों को हितो के रक्षण के साथ-साथ उन्हें एक सम्मानजनक जीवन भी मिलेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *