Connect with us

पॉलिटिक्स

कृषि मंत्री ने कृषि कानूनों को बताया जरुरी, बोले- ‘ऐसा मॉडल तैयार करना चाहती है सरकार’

Published

on

Narendra Singh Tomar
Picture of Narendra Singh Tomar[Twitter]

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पूसा किसान मेले में किसानों को संबोधित करते हुए नए कृषि कानूनों को लेकर बात की। एक एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के अनुसार कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि में बदलते समय के साथ कोई बदलाव नहीं किया गया। इस वजह से कृषि क्षेत्र बांकियों से पिछड़ गया। उन्होंने कृषि कानूनों को जरुरी बताते हुए कहा कि सरकार एक ऐसा मॉडल तैयार करना चाहती है। जिसमें किसान अपनी इच्छा से अपनी फसल बेच सकता है।

 

कृषि मंत्री ने कहा कि इसके जरिए किसान मंडी के अंदर या बाहर अपनी सुविधा और इच्छा के अनुसार फसलों के दाम प्राप्त कर सकें। उन्होंने आगे कहा कि इसमें कहीं भी जमीन का समझौता नहीं किया जा सकता है। लेकिन इसके बावजूद भी किसानों को भड़काने की कोशिश हो रही है। संबोधन के दौरान कृषि मंत्री ने वहां मौजूद किसानों से पूछा कि अगर सरकार किसानों की स्थिति में बदलाव लाने के प्रयास कर रही है तो क्या ऐसे में इस तरह के आंदोलन होने चाहिए।

Picture from [Twitter]

Picture shared by ANI [Twitter]

उन्होंने आगे बताया कि नए कृषि कानूनों के जरिए सरकार किसानों के लिए लाभ का रास्ता साफ करना चाहती हैं। कृषि मंत्री ने कहा कि निराश किसानों के बेटे खेती छोड़कर शहरों में जाकर नौकरी तलाश रहे हैं। लेकिन अगर उनकी खेती को ही लाभ का सौदा बना दिया जाए तो यह पलायन रोका जा सकता है और सरकार यही करने का प्रयास कर रही है।

 

रिपोर्ट के मुताबिक कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के संबोधन पर किसानों ने मिली-जुली प्रतिक्रिया दी है। एक किसान ने सवाल उठाया कि कृषि मंत्री के पूरे भाषण में न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) का जिक्र एक बार भी नहीं था। जो कि किसानों की सबसे बड़ी मांग थी। एक किसान ने कहा कि सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि वह किसानों की फसलों पर अच्छा मूल्य दिलाने के लिए कौन सा मॉडल बनाना चाहती है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *