Connect with us

मिलिट्री

ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए एयरलिफ्टिंग में मुस्तैद है भारतीय वायु सेना, 21 दिनों में इतने घंटो की भरी उड़ान

भारतीय वायु सेना 21 अप्रैल से देश के भीतर और बाहर दोनों जगहों से ऑक्सीजन की एयरलिफ्टिंग में मुस्तैद है

Published

on

Picture shared by IAF
Picture shared by IAF [Twitter]

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के खिलाफ लड़ाई में भारतीय वायु सेना लगातार विभिन्न क्षेत्रों में मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाने और राहत कार्यों में जुटी हुई है। 498 ऑक्सीजन टैंकरों को एयरलिफ्ट करने के लिए एयर फोर्स के परिवहन विमान और हेलीकॉप्टरों ने 732 से अधिक उड़ाने भरी है। भारतीय वायु सेना 21 अप्रैल से देश के भीतर और बाहर दोनों जगहों से ऑक्सीजन की एयरलिफ्टिंग में मुस्तैद है।

 

एक न्यूज एजेंसी को भारतीय वायु सेना के प्रवक्ता ने बताया कि, ‘घरेलू क्षेत्र में वायु सेना के पायलटों ने 403 ऑक्सीजन कंटेनरों को एयरलिफ्ट करने के लिए 939 घंटे लगातार 634 उड़ानें भरी है। इस दौरान 163.3 मीट्रिक टन अन्य उपकरणों के साथ 6856.2 मीट्रिक टन ऑक्सीजन ले जाया गया। कोरोना के खिलाफ इस ऑपरेशन के लिए वायु सेना ने 42 परिवहन विमान तैनात किए हैं जिनमें छह प्रत्येक C-17 और Ilyushin-76 परिवहन विमान और 30 मध्यम लिफ्ट C-130Js और AN-32 विमान शामिल हैं।

Picture shared by ANI

Picture shared by ANI [Twitter]


प्रवक्ता ने आगे बताया कि वायु सेना ने ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, जर्मनी, इंडोनेशिया और सिंगापुर सहित नौ से ज्यादा देशों में भी ऑक्सीजन कंटेनर और अन्य राहत सामग्री पहुंचाने के लिए उड़ान भरी है’। वायु सेना के अधिकारियों ने बताया कि ‘अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों में एयर फोर्स के विमानों ने विदेशों से 95 कंटेनरों को लाने के लिए 98 उड़ानें भरी। इन उड़ानों में कुल जिसमें 480 घंटे लगे है’।

 

उन्होंने आगे बताया कि भारतीय वायुसेना द्वारा विदेश से लाए गए कंटेनर 793.1 मीट्रिक टन ऑक्सीजन ले जाने में मदद कर सकते हैं। बताते चले कि ऑक्सीजन और अन्य राहत सामग्री लाने के ऑपरेशनों के लिए वायुसेना ने विशेष टीमों और कर्मचारियों को तैनात किया है। ऑपरेशनों में मुस्तैद लोग एक विशेष सुरक्षा के अंतर्गत काम कर रहे हैं। ताकि वह किसी भी संक्रमण से बच सकें।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *