Connect with us

मिलिट्री

‘सैनिकों के लिए अगर भारतीय उद्योग बनाए कपड़े तो आयात पर लगा देंगे प्रतिबंध’- CDS बिपिन रावत

Published

on

Bipin Rawat
Photo of CDS Bipin Rawat[Twitter]

भारत के चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ जनरल (CDS) बिपिन रावत ने भारतीय कपड़ा उद्योग में सैनिकों के लिए कपड़ों के निर्माण को लेकर एक अहम बयान दिया है। एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के अनुसार बिपिन रावत ने कहा है कि अगर भारत के कपड़ा उद्योग सेना के लिए उच्‍च गुणवत्‍ता के कपड़े बनाए तो सशस्त्र सेनाएं बाहर से कपड़ो के आयात पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा देंगी।

 

CDS ने बताया कि सेना के सशस्त्र बलों के लिए बड़े पैमाने पर कपड़ों का आयात किया जाता रहा है। यह कपड़े सशस्त्र सेनाओं को देशभर में तैनाती के दौरान जवानों को प्रतिकूल मौसम से सुरक्षित रखने में सहायक होते है। CDS के अनुसार ऐसे वस्त्र भारत में ही बनने लगे तो इनके आयात को पूरी तरह से बैन कर दिया जाएगा। बिपिन रावत ने आगे यह भी कहा कि ‘भारतीय उद्योग ने हाल के वर्षों में काफी सफलता हासिल की है और नवीनीकरण किए हैं’।

Bipin Rawat

Picture of Bipin Rawat shared by users [Twitter]

उन्होंने आगे कहा कि ‘हम उस तरह के कपड़ों पर विचार कर रहे हैं जो हमारी फौज को बेहद ठंड और बेहद गर्म, शुष्क, उमस भरे मौसम में काम करने के लिए अनुकूल बनाए रखने में सहायक हो। प्रमुख रूप से लद्दाख की उत्तरी सीमाओं के पास और रेगिस्तानी और उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों में तैनात सैनिकों के लिए’। बता दें कि CDS बिपिन रावत ने सेना के लिए स्वदेशी वस्त्रों के निर्माण से जुड़े अपने विचार भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ के एक कार्यक्रम में प्रकट किए हैं।

CDS बिपिन रावत हमेशा से सेना में हर स्तर पर मॉडर्न तकनीक और हथियारों के इस्तेमाल के पक्षधर रहे हैं। इससे पहले भी उन्होंने सेना में भी अलग-अलग लेवल पर परिवर्तन लाने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा था कि टेक्निकल डेवलपमेंट के चलते युद्ध के तौर-तरीकों में बड़ा बदलाव देखा गया है। हालांकि भारत के पास पारंपरिक युद्धों या फिर सीमित युद्धों के लिए संगठनात्मक संरचान उपलब्ध है लेकिन इन्हे नए बदलावों को देखते हुए फिर से तैयार करने की जरुरत है। जिससे डिजीटल जंग में सरलता से लड़ाई लड़ी जा सके।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *