Connect with us

भारत

DRDO और भारतीय वायुसेना ने किया स्वदेशी रूप से विकसित लॉन्ग-रेंज बम का सफलतापूर्वक परीक्षण, पढ़ें खबर

केंद्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने लॉन्ग-रेंज बम (LRB) के सफलतापूर्वक परीक्षण के लिए DRDO, भारतीय वायुसेना और सफल उड़ान परीक्षण से जुड़ी अन्य टीमों को बधाई दी है

Published

on

Photo from Unplash
Photo from Unplash

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) भारत के रक्षा क्षेत्र को लगातार मजबूती प्रदान कर रहा है। DRDO और भारतीय वायुसेना (IAF) ने आज स्वदेशी रूप से विकसित लॉन्ग-रेंज बम का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। यह भारतीय वायुसेना के लिए अहम उपलब्धि है। केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ने बताया है कि DRDO और भारतीय वायु सेना की टीम ने संयुक्त रूप से आज एक हवाई मंच से स्वदेशी लॉन्ग-रेंज बम (LRB) का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है।

 

रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान से छोड़े जाने के बाद लॉन्ग-रेंज बम ने निर्दिष्ट सीमाओं के भीतर सटीकता के साथ लंबी दूरी पर भूमि-आधारित लक्ष्य को सफलतापूर्वक ध्‍वस्‍त किया। बयान के अनुसार मिशन के सभी उद्देश्यों को सफलतापूर्वक पूरा किया गया।

Photo from Unplash

Photo from Unplash

रक्षा मंत्रालय ने आगे बताया कि उड़ीसा में एकीकृत परीक्षण रेंज, चांदीपुर द्वारा तैनात इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम (EOTS), टेलीमेट्री और रडार सहित कई रेंज सेंसर द्वारा बम की उड़ान और प्रदर्शन की निगरानी की गई थी। इस लॉन्ग-रेंज बम को DRDO की हैदराबाद स्थित प्रयोगशाला रिसर्च सेंटर इमारत (RCI) द्वारा अन्य DRDO प्रयोगशालाओं के समन्वय में डिजाइन और विकसित किया गया है।

 

केंद्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने लॉन्ग-रेंज बम (LRB) के सफलतापूर्वक परीक्षण के लिए DRDO, भारतीय वायुसेना और सफल उड़ान परीक्षण से जुड़ी अन्य टीमों को बधाई दी है और कहा है कि यह भारतीय सशस्त्र बलों के लिए एक बल गुणक साबित होगा। DRDO के चेयरमैन DDR&D के सचिव डॉ जी सतीश रेड्डी ने टीमों को अपने संदेश में कहा कि लंबी दूरी के बम के सफल उड़ान परीक्षण ने सिस्टम के इस वर्ग के स्वदेशी विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर चिह्नित किया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *