Connect with us

कोरोना

कोरोना नियमों की अनदेखी पर गृह मंत्रालय ने दिया राज्यों को निर्देश- ‘जहां हो उल्लंघन वहां लगाएं प्रतिबंध’

गृह मंत्रालय ने पत्र में कहा है कि कोरोना वायरस के कई वैरिएंट अभी भी सक्रिय हैं

Published

on

Photo from Unplash
Photo from Unplash

कोरोना महामारी की संभावित तीसरी लहर को आने से रोकने के लिए कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करना बेहद जरूरी है। भारत सरकार द्वारा भी इसको लेकर कई बार चेतावनी जारी की गई है। लेकिन इसके बावजूद देश के पर्यटन स्थलों और बाजारों में भीड़ नजर आ रही है। लोगों द्वारा कोरोना नियमों की धज्जियां भी जमकर उड़ाई जा रही हैं। कोरोना के प्रति लोगो की लापरवाही देखते हुए अब गृह मंत्रालय ने देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भीड़ बढ़ने पर पाबंदियों को फिर से लगाने का निर्देश दिया है।

 

एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्यों को पत्र लिखकर कोरोना नियमों का सख्ती से पालन करवाने को कहा है। उन्होंने निर्देश दिया है कि जिन-जिन क्षेत्रों में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा है। वहां फिर से लॉकडाउन लागू किया जाए। पत्र में कहा गया है कि देश के कई हिस्सों में कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन देखने को मिल रहा है।

Photo from Unplash

Photo from Unplash

पत्र में आगे कहा गया है कि सार्वजनिक परिवहन में भी कोरोना उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं हो रहा है। बाजारों में उमड़ती भीड़ और सोशल डिस्टेंशिंग और मास्क जैसे नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है। गृह मंत्रालय ने पत्र में कहा है कि संक्रमण की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है। वायरस के कई वैरिएंट अभी भी सक्रिय हैं। ऐसे में लोगो की लापरवाही चिंता का विषय है। हिल स्टेशनों पर सैलानियों की भीड़ का भी जिक्र किया गया है।

 

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को यह निर्देश भी दिया गया है कि कोरोना से बचाव के लिए दिशा-निर्देशों का अनुपालन नहीं करा पाने से जुड़े अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। पत्र में केंद्रीय गृह सचिव ने कहा कि कोरोना के मामलों में कमी आने के बाद राज्यों द्वारा धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों को फिर शुरू किया जा रहा है। लेकिन कोरोना के खतरे को देखते हुए इस प्रक्रिया को बेहद सावधानी पूर्वक अंजाम दिया जाना चाहिए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *