Connect with us

भारत

Pariksha Pe Charcha 2021: जानें स्टूडेंट्स और पैरेंट्स को पीएम मोदी ने दिया कौन सा मंत्र, इस संकल्प को बताया महत्वपूर्ण

Published

on

Narendra Modi
Photo shared by @PMOIndia[Twitter]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ‘परीक्षा पे चर्चा’ करते हुए स्कूली विद्यार्थियों, अभिभावकों और शिक्षकों के साथ संवाद किया और विद्यार्थियों को प्रेरित करते हुए कई अहम बातों पर अपने विचार रखे। ‘परीक्षा पे चर्चा’ का यह चौथा संस्करण है। यह चर्चा पहली बार ऑनलाइन मोड में हुई है। प्रधानमंत्री मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ के लोकप्रिय संवाद का लाइव प्रसारण किया गया है। इस चर्चा में पीएम मोदी ने छात्रों और शिक्षकों के प्रश्नों को जवाब देते हुए कहा कि ‘स्टूडेंट्स परीक्षा को लेकर तनाव न लें’।

प्रधानमंत्री ने ‘परीक्षा पे चर्चा’ के दौरान कहा कि स्टूडेंट्स को परीक्षाओं का डर नही होता है। उन्हें डर होता है उस माहौल से जो उनके आसपास बना दिया गया है कि यह परीक्षा सब कुछ है। यही जीवन है’। उन्होंने आगे कहा कि ‘परीक्षा को लेकर बिल्कुल भी तनाव न लें। परीक्षा से डरना नहीं चाहिए। माता पिता को बच्चों पर परीक्षा को लेकर तनाव नहीं लेना चाहिए। बच्चों को सहज एवं तनावमुक्त रखना है’।

विद्यार्थियों को प्रेरित करने के एक सवाल पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘बच्चे काफी एक्टिव होते हैं। हमे बड़े होने के बावजूद भी अपना मूल्यांकन करना चाहिए। हम एक सामाजिक ढांचा बना देते हैं और प्रयास करते हैं बच्चे उसी में ढल जाएं। बच्चों को प्रेरित करने के लिए ट्रेनिंग है। इसके लिए अच्छी किताबें, मूवी या अच्छी कविता का सहारा लिया जा सकता है। अगर आप चाहते हैं कि बच्चा सुबह उठकर पढ़ें तो बच्चे के सामने ऐसी चर्चा करें कि सुबह उठने के क्या लाभ हैं’।

जीवन में सपनों के महत्त्व पर बात करते हुए पीएम ने कहा कि ‘सपने देखना अच्छी बात है, लेकिन सपने को लेकर के बैठे रहना और सोते रहना सही नहीं है। सपनों से आगे बढ़कर उन्हें पूरा करने का संकल्प बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने आगे कहा कि आवश्यक है कि दसवीं कक्षा और बारहवीं कक्षा में भी आप अपने आसपास के जीवन को ऑब्जर्व करना सीखें’।

विद्यार्थियों की क्षमता पर बात करते हुए पीएम ने कहा कि ‘बच्चे बड़े स्मार्ट होते हैं। जो आप कहेंगे, उसे वो करेंगे या नहीं करेंगे, यह कहना मुश्किल है, लेकिन इस बात की पूरी संभावना होती है कि जो आप कर रहे हैं, वो उसे बहुत बारीकी से देखता है और दोहराने के लिए लालायित हो जाता है’। बताते चले कि इस ‘परीक्षा पे चर्चा’ के ऑनलाइन इंटेरैक्शन में 14 लाख रजिस्टर्ड स्टूडेंट्स, पैरेंट्स एवं टीचर्स ने प्रधानमंत्री मोदी के साथ संवाद किया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *