Connect with us

कोरोना

ऐसे पहचानें कोरोना वैक्सीन असली है या नकली, केंद्र सरकार ने गाइडलाइंस जारी कर बताया तरीका

अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी द्वारा सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए गाइडलाइन जारी की गई है

Published

on

Photo from Unplash
Photo from Unplash

केंद्र सरकार ने देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना के असली और नकली टीके की पहचान के लिए गाइडलाइंस जारी की है। जिससे लोग यह पहचान सकें कि उन्हें जो कोरोना वैक्सीन लग रही है वो असली है या नकली। इसके आलावा सरकार का मकसद सेवा प्रदाताओं और निगरानी टीमों को भी किसी भी नकली कोरोना वैक्सीन की पहचान करने में सक्षम बनाना और देश में नकली टीकों को लगने से रोकना है।

 

एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के अनुसार अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी द्वारा सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए गाइडलाइन जारी की गई है। उन्होंने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के सभी अतिरिक्त मुख्य सचिवों और प्रधान सचिवों (स्वास्थ्य) को लिखे पत्र में कहा है कि कोरोना टीकों को इस्तेमाल से पहले सावधानीपूर्वक प्रमाणित करने की आवश्यकता है। वास्तविक कोरोना टीकों के लेबल की जानकारी और इस्तेमाल में आने वाले कोरोना टीकों की अतिरिक्त जानकारी राष्ट्रीय कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत कार्यक्रम प्रबंधकों और सेवा प्रदाताओं के संदर्भ के लिए संलग्न की जा रही है।

 

देश में राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान के तहत अभी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशिल्ड, भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी लगाई जा रही है। गाइडलाइंस के मुताबिक एक असली कोविशील्ड वैक्सीन की शीशी के बोतल पर गहरे हरे रंग में एसआईआई उत्पाद का लेबल शेड, उल्लिखित ट्रेडमार्क के साथ ब्रांड का नाम और गहरे हरे रंग की एल्यूमीनियम फ्लिप-ऑफ सील होगी। एसआईआई लोगो लेबल के चिपकने वाली ओर एक अलग कोण पर मुद्रित होता है, जिसे केवल कुछ चुनिंदा लोगों द्वारा पहचाना जा सकता है जो इसकी सटीक जानकारी से अवगत हैं।

[Twitter]

Photo shared by Serum Institute of India and Bharat Biotech[Twitter]


इसके साथ ही अक्षरों को अधिक स्पष्ट और पढ़ने योग्य होने के लिए खास सफेद इंक में मुद्रित किया जाता है। पूरे लेबल को एक खास बनावट दी गई है, जो केवल एक विशिष्ट कोण पर दिखाई देती है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के लेबल में नकल रोधी सुविधाओं में अदृश्य यूवी हेलिक्स (डीएनए जैसी संरचना) शामिल है, जो केवल यूवी लाइट में ही दिखाई देती है।

 

रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-वी के मामले में यह आयातित उत्पाद रूस से दो अलग-अलग थोक निर्माण स्थलों से हैं और इसलिए, इन दोनों स्थलों के लिए दो अलग-अलग लेबल हैं जबकि सभी जानकारी और डिजाइन समान हैं, केवल निर्माता का नाम अलग है। अंग्रेजी लेबल केवल 5 एम्प्यूल पैक के कार्टन के आगे और पीछे उपलब्ध है इसके अलावा सभी ओर एम्प्यूल पर प्राथमिक लेबल सहित रूसी में है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *