Connect with us

कोरोना

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के वैरिएंट्स को लेकर किया सचेत, हिल स्टेशनों पर उमड़ती भीड़ पर कहा- ‘यह ठीक नहीं है’

प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्वोत्तर भारत के आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर वहां की स्थिति का जायजा लिया

Published

on

Narendra Modi
Photo of Narendra Modi shared by @narendramodi[Twitter]

देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का प्रभाव कम होता नजर आ रहा है। इस बीच कोरोना की संभावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सरकार कमर कस रही है। ताकि इस लहर से बेहतर ढंग से निपटा जा सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पूर्वोत्तर भारत के आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक कर वहां की स्थिति का जायजा लिया। बैठक में उन्होंने हिल स्टेशनों पर बढ़ती भीड़ और कोरोना नियमों के प्रति लापरवाही पर चिंता व्यक्त की है।

 

इस बैठक में असम, नगालैंड, मेघालय, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, मिजोरम, सिक्किम और मणिपुर के मुख्यमंत्री ने भाग लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने बैठक में कोरोना के बदलते स्वरूपों और उससे होने वाले खतरों को लेकर सचेत करते हुए कहा कि यह वायरस बहरूपिया है, हमें कोरोना के प्रत्येक वैरिएंट पर भी नजर रखनी होगी। म्यूटेशन के बाद यह कितनी मुश्किल खड़ी करेगा इसपर विशेषज्ञ निरंतर अध्ययन कर रहे हैं। ऐसे में इसके रोकथाम और समय रहते इलाज करना बेहद अनिवार्य है।

 

प्रधानमंत्री मोदी ने संक्रमण की तीसरी लहर के प्रति सचेत करते हुए कहा कि ‘हमें टेस्टिंग और ट्रीटमेंट से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार करते हुए आगे बढ़ना है। हमें खासतौर से ऑक्सीजन पर पीडियाट्रिक केयर से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण के लिए तेज गति से कार्य करना होगा। इसके लिए कैबिनेट ने हाल ही में 23 हजार करोड़ रुपये के नए पैकेज को मंजूरी दी है। इससे नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में अपने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूती प्रदान करने में मदद मिलेगी।’

दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के बाद लोगों द्वारा पर्यटन स्थलों पर जुटने के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना के कारण व्यापार-कारोबार और टूरिज्म बेहद प्रभावित हुए हैं। लेकिन इसके बावजूद मैं बहुत जोर देकर कहूंगा कि पर्वतीय स्थलों में, बाजारों में बिना मास्क पहने भारी भीड़ का उमड़ना चिंताजनक है। यह ठीक नहीं है’।

प्रधानमंत्री मोदी ने संक्रमण की तीसरी लहर से मुकाबले के लिए कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया तेज करते रहने की अपील की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा चलाए जा रहे ‘सबको वैक्सीन-मुफ्त वैक्सीन’ अभियान की देश के पूर्वोत्तर राज्यों में भी उतनी ही अहमियत है। उन्होंने आगे कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए हमें माइक्रो-लेवल पर और सख्त कदम उठाने होंगे। इससे जिम्मेदारी निर्धारित हो सकती है और माइक्रो कंटेनमेंट क्षेत्र पर पूरा जोर लगाना है। साथ ही पिछले डेढ़ साल में हमें जो अनुभव मिले हैं उनका भी पूरा उपयोग करना होगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *