Connect with us

कोरोना

ब्रिटेन में कोरोना के इलाज के लिए नेजल स्प्रे ‘सैनोटाइज’ का क्लीनिकल ट्रॉयल हुआ सफल, जानें क्या कहता है अध्ययन

Published

on

Representative Image [Instagram]
Representative Image [Instagram]

ब्रिटेन में एक क्लीनिकल ट्रायल में नाइट्रिक ऑक्साइड नेजल स्प्रे (NONS) ‘सैनोटाइज’ से कोरोना संक्रमण के इलाज में सफलता मिली है। एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के अनुसार इस ट्रायल में पाया गया कि सैनोटाइज के इस्तेमाल से संक्रमित व्यक्ति में वायरस का असर 24 घंटे में 95 फीसदी और 72 घंटे में 99 फीसदी तक कम हुआ। यह ट्रायल बॉयोटेक कंपनी सैनोटाइज रिसर्च एंड डेवलपमेंट कार्पोरेशन और ब्रिटेन के एशफोर्ड एंड पीटर्स हॉस्पिटल्स द्वारा किया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक इस ट्रायल के रिजल्ट से सैनोटाइज के कोरोना का सुरक्षित और असरदार उपचार होने के संकेत मिले है। यह नेजल स्प्रे इस संक्रमण को रोकने में सक्षम है। साथ ही यह कोरोना संक्रमण की मियाद भी कम कर सकता है और संक्रमितों में नुकसान को भी कम कर सकता है।

Representative Image [Instagram]

Representative Image [Instagram]


रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि 79 मरीजों पर सैनोटाइज के प्रभाव का अध्ययन किया गया। ट्रायल के दौरान पता चला कि नेजल स्प्रे के इस्तेमाल से संक्रमितों में सॉर्स-कोव-2 वायरस लॉग का लोड कम हुआ। पहले 24 घंटे में औसत वायरल लॉग घटकर 1.362 रह गया। साथ ही ट्रायल के दौरान सैनोटाइज का कोरोना के मरीजों पर कोई साइड इफैक्ट नहीं पाया गया।

नेजल स्प्रे सैनोटाइज के ट्रायल में शामिल मरीजों में से अधिकतम कोरोना के यूके वेरिएंट से संक्रमित थे। बता दें कि यह कोरोना स्ट्रेन घातक माना जाता है। बताते चले कि नाइट्रिक ऑक्साइड नेजल स्प्रे (NONS) नोवल थैरापेटिक ट्रीटमेंट या चिकित्सकीय उपचार है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *