Connect with us

भारत

सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों के निर्माण में जहरीले रसायनों के उपयोग पर जताई नाराजगी, सीबीआई की रिपोर्ट पर कही यह बात

सर्वोच्च न्यायलय ने पटाखा निर्माताओं को अपना पक्ष सामने रखने का एक और अवसर दिया है

Published

on

Picture from [Twitter]
Picture from [Twitter] shared by users

सर्वोच्च न्यायलय ने आज कहा है कि पटाखों के निर्माण में जहरीले रसायनों के इस्तेमाल सीबीआई की रिपोर्ट बेहद गंभीर है। एक लीडिंग डेली की रिपोर्ट के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि सीबीआई को जब्त की गई सामग्री में बेरियम साल्ट जैसे नुकसानदायक रसायन मिले हैं। साथ ही यह भी कहा कि पहली नजर में बेरियम के उपयोग और पटाखों की लेबलिंग में भी अदालत के आदेशों का उल्लंघन हुआ है।

 

रिपोर्ट के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों से होने वाले प्रदूषण के मुद्दे पर सख्‍त रुख अपनाते हुए कहा कि हम इस तरह से लोगों को उनके हाल पर मरने के लिए नहीं छोड़ सकते हैं। शीर्ष अदालत ने बताया कि हिंदुस्तान फायरवर्क्स और स्टैंडर्ड फायरवर्क्स जैसे उत्पादकों ने भी बड़ी मात्रा में बेरियम की खरीदी की है और इनका इस्तेमाल पटाखा निर्माण में किया है।

Photo from Unplash

Photo from Unplash

जस्टिस एमआर शाह और जस्टिस एएस बोपन्ना की पीठ ने पटाखा निर्माताओं को इस रिपोर्ट के संबंध में अपना पक्ष सामने रखने का एक और अवसर दिया है। पीठ ने इसके अलावा यह निर्देश दिया कि सीबीआई की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट की एक-एक कॉपी गुरुवार तक सभी संबंधित वकीलों को उपलब्ध करा दी जाए। सुप्रीम कोर्ट अब इस मामले की अगली सुनवाई छह अक्टूबर को करेगा।

 

जस्टिस एमआर शाह ने मजमले की सुनवाई के दौरान पटाखा निर्माताओं के इस तर्क को खारिज किया कि पटाखा उद्योग से हजारों लोग अपनी आजीविका कमाते हैं, हमें रोजगार, बेरोजगारी, जीवन के अधिकार और नागरिकों के स्वास्थ्य के बीच संतुलन बनाना होगा। बता दें की यह रिपोर्ट सीबीआई चेन्नई के संयुक्त निदेशक ने तैयार की है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *