Connect with us

मनोरंजन

ऑस्कर अवॉर्ड की लिस्ट में शामिल हुई विद्या बालन की शॉर्ट फिल्म – ‘नटखट’

Published

on

Vidya Balan
Poster of Film Natkhat[Instagram/Vidya Balan]

एक्ट्रेस विद्या बालन की पॉपुलर शॉर्ट फिल्म ‘नटखट’ साल 2020 की 33 मिनट की फिल्म है। जिसकी कहानी अनुकंपा हर्ष द्वारा लिखी गई है और इसका निर्देशन शान व्यास के द्वारा किया गया है। फिल्म ‘नटखट’ को ऑस्कर पुरस्कार के लिए भी नामित किया गया है। इस फिल्म में विद्या बालन को एक ऐसे परिवार की ग्रहणी के रूप में प्रस्तुत किया गया है ,जो पुरुष प्रधान समाज का प्रतिनिधित्व करता है। फिल्म में विद्या बालन ने एक मां की भूमिका अदा किया है जिसमें उन्होंने अपने युवा बेटे सोनू (सानिका पटेल ) को लैंगिक समानता के बारे में शिक्षित किया है।

फिल्म ‘नटखट’ में उनका बेटा भी अपने परिवार के पुरुषों की तरह स्त्रियों के प्रति अनादर का भाव रखता है। विद्या बालन ने उसकी सोच को एक नई दिशा देने का प्रयत्न किया है, जिससे वह स्त्री जाति का मान, सम्मान व आदर कर सके। साथ ही साथ वह अपने प्रयास में सफल भी रही। इस फिल्म में मां बेटे के खूबसूरत रिश्ते की झलक दिखाई पड़ती है। साथ ही साथ यह भी बताया जाता है कि घर व परिवार एक ऐसा स्थान है जहां से हम अपने मूल्यों और संस्कारों को सीखते हैं और घर में मां ही बच्चों की पहली शिक्षक होती है।

Vidya Balan

Poster of Film Natkhat[Instagram/Vidya Balan]

दुनिया भर के अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में इस फिल्म की स्क्रीनिंग व सराहना की गई थी। 2020 के कोरोना काल में भी इसका सफर चलता रहा। इसे बेस्ट ऑफ इंडिया शॉर्ट फिल्म फिल्म फेस्टिवल में भी विजेता घोषित किया गया और अब यह 2021 में ऑस्कर अवॉर्ड्स के लिए भी नॉमिनेट भी हो गई है। जो कि भारतीय सिनेमा के लिए गर्व की बात है।

Vidya Balan

Poster of Film Natkhat[Instagram/Vidya Balan]

रॉनी स्क्रूवाला ने अपने एक ट्वीट में लिखा है कि हमने ‘नटखट’ दुनिया के हर कोने तक पहुंचाने और यह मैसेज देने के लिए बनाई है कि बदलाव अपने घर से ही शुरू होता है और इस फिल्म ने पूरी दुनिया में अपना एक स्थान बना लिया है।

इस फिल्म के द्वारा यह संदेश पहुंचता है कि हमें अपने बच्चों को ऐसे मूल्य व संस्कार सिखाने चाहिए जिससे वह समाज व परिवार के प्रति अपने दायित्व को पूरा करने में पूरी तरह से सक्षम बन सके। बताते चले कि ‘नटखट’ के निर्माता रॉनी स्क्रूवाला है तथा संगीतकार करण गौर हैं।