Connect with us

स्टार्टअप

Prosus के स्वामित्व वाली PayU ने किया इतने बिलियन डॉलर में BillDesk का अधिग्रहण, जानें इस डील में क्या है खास

यह भारत के डिजिटल पेमेंट क्षेत्र में सबसे बड़े अधिग्रहणों में से एक है

Published

on

Representative Image [Instagram]
Representative Image [Instagram]

भारतीय पेमेंट गेटवे फर्म BillDesk को Prosus के स्वामित्व वाले Payu ने 4.7 बिलियन डॉलर में अधिग्रहित किया है। यह भारत के फिनटेक स्पेस में सबसे बड़े अधिग्रहणों में से एक है। यह भारत के डिजिटल पेमेंट क्षेत्र में सबसे बड़े अधिग्रहणों में से एक होने के साथ-साथ तेजी से बढ़ते क्षेत्र को मजबूत करने के लिए अब तक का सबसे बड़ा कदम भी होगा।

 

Prosus ने एक प्रेस रिलीज में कहा, ‘PayU India और BillDesk भारत के डिजिटल पेमेंट उद्योग के भीतर पूरक व्यवसाय चलाते हैं। दोनों मिलकर एक वित्तीय पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की उम्मीद करते हैं जो सालाना चार अरब लेनदेन को संभालता है, भारत में PayU के मौजूदा स्तर का चार गुना’। Prosus को उम्मीद है कि Payu और BillDesk मिलकर वैश्विक स्तर पर अग्रणी ऑनलाइन भुगतान प्रदाताओं में से एक बन जाएंगे, जो कि 147 बिलियन डॉलर की कुल भुगतान मात्रा (TPV) को संभालेंगे।

Photo from Unplash

Photo from Unplash

Prosus ने अपने एक बयान में कहा कि, ‘PayU India और BillDesk भारत में डिजिटल उपभोक्ताओं, व्यापारियों और सरकारी उद्यमों की बदलती भुगतान जरूरतों को पूरा करने में सक्षम होंगे और नियामक का पालन करते हुए समाज के बहिष्कृत वर्गों के लिए अत्याधुनिक तकनीक की पेशकश करेंगे। भारत में पर्यावरण और मजबूत उपभोक्ता संरक्षण प्रदान करना है’।

 

एक वेब पोर्टल की रिपोर्ट के अनुसार इस डील के पूरा होने के बाद, यह भारतीय तकनीक में Prosus के संचयी निवेश को 10 बिलियन डॉलर से भी अधिक तक ले आएगा। बता दें कि BillDesk भारत के सबसे पुराने भुगतान गेटवे में से एक है और देश के ऑनलाइन बिल भुगतान का लगभग 60 फीसदी अधिकार रखता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *